क्या होते हैं जंक फ़ूड ? What is junk food in Hindi?


��र हम ����र��� �� ���(JUNK) �ा �न�वाद �र �स�� सम�ना �ाह�� त� ��सा �ि ����र��� म�� ��� �ा मतलब ह�ता ह� �बा�/��रा �� �िस� �ाम �ा नह�� ह�ता ह�। मतलब ��रा �ाद�य पदार�थ �� हमार� �� लि� �िस� �ाम �� नह�� ह� �र स�वास�थ�य �� लि� ब�हद हानि�ार ह�। ल��िन ��र हम सम�ना �ाह�� �ि What is junk food in Hindi त� हम�� विस�तार स� �स�� हर पहल� �� सम�ना ह��ा।


��� ��ड ��या ह�?

जंक फूड ऐसा खाना है जिसमें किसी भ­à¥€ प्रकार के पोषक तत्व या तो बहुत काम मात्रा में होते हैं अथवा नहीं होते हैं, लेकिन इनमें कार्बोहायड्रेट, वासा, शर्करा, नमक और अन्य कृत्रिम रसायन जो इसका स्वाद बढ़ाते हैं, की मात्रा हानिकारक स्तर से कहीं ज्यादा होती है।

कोई भ­à¥€ खाद्य पदार्थ बनाने के लिए अगर उसे बहुत ज्यादा प्रसंस्कृत (highly processed) किया जाता है तो वह जंक फ़ूड की श्रेणी में आता है क्योंकि ऐसा करने से उसके पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं और उसे स्वादिष्ट बनाने के लिए उसमें वसा, चीनी, नमक और कृत्रिम खुशबू इत्यादि मिलाएं जाते हैं जो खाने वाले को आकर्षित करते है।

जंक फ़ूड के प्रकार

बाज़ार में मिलने वाले पैक्ड जंक फ़ूड

आज बाज़ार विभ­à¤¿à¤¨à¥à¤¨ प्रकार के जंक फ़ूड से भ­à¤°à¤¾ हुआ है। इन्हें बनाने वाली कंपनियों भ­à¥€ विभ­à¤¿à¤¨à¥à¤¨ प्रचार माध्यमों से ग्राहक को इन्हे खाने तो उकसाती है। जंक फ़ूड की विशेषता यह होती है कि इनके ख़राब होने का समय (shelf life) लम्बा होता है इसलिए इन्हें बेचना आसान होता है।

बाज़ार में मिलने वाले अधिकांश पैक्ड खाद्य पदार्थ जैसे बिस्किट्स, कुकीज, चिप्स, नमकीन, चॉकलेट, कन्फेक्शनरी, पेय पदार्थ इत्यादि सेंकडो प्रकार के उत्पाद जंक फ़ूड की श्रेणी में आते हैं। इन्हें बनाने के लिए हानिकारक वासा, उच्च शर्करा की मात्रा , नमक इत्यादि का प्रोग किया जाता है।

बाज़ार का खाना

यह जरुरी नहीं है कि बाज़ार में मिलने वाला हर भ­à¥‹à¤œà¤¨ या खाद्य-पदार्थ जंक ही हो लेकिन उनके जंक होने की संभ­à¤¾à¤µà¤¨à¤¾à¤à¤‚ बहुत ज्यादा होती है। क्योंकि इन्हे स्वादिष्ट और आकर्षित बनाने के लिए विभ­à¤¿à¤¨à¥à¤¨ प्रकार के हानिकारक खाद्य पदार्थ मिलाये जाते हैं जिससे यह लोगों को पसंद आते हैं और लोग इन्हे खाने के लिए बार-बार जाते हैं।

बाज़ार में मिलने वाले पिज़्ज़ा, बर्गर, कचोरी, समोसा, मिठाईयां तो जंक फ़ूड होते ही हैं लेकिन रेस्टोरेंट में मिलने वाली विभ­à¤¿à¤¨à¥à¤¨ सब्जियां, नान, परांठा इत्यादि भ­à¥€ लगभ­à¤— जंक फ़ूड ही कहे जा सकते हैं। रेस्टोरेंट में मिलने वाला भ­à¥‹à¤œà¤¨ अक्सर हमे लालायित करता है कि हम बार-बार जाकर उसे खाएं क्योकि उसमें उच्च वसा, चीनी और नमक की मात्रा मिलायी जाती है।

बहुत सी जगह बाज़ार में सादा भ­à¥‹à¤œà¤¨ भ­à¥€ मिलता है उसे जंक फ़ूड की श्रेणी से बाहर रखा जा सकता है।

घर का खाना

यह अक्सर माना जाता रहा है कि घर का बना हुआ खाना स्वास्थवर्धक होता है लेकिन आज के परिपेक्ष्य में यह पूरी तरह सही नहीं कहा जा सकता है। आज घर भ­à¥€ वही सब बनाने का प्रचलन बढ़ता जा रहा है जो पहले कभ­à¥€ सिर्फ बाज़ार में ही मिलता था। घर का बना पिज़्ज़ा, मिठाईयां, बर्गर, केक,



Posted from my blog with SteemPress : http://hamarasansar.com/life/what-is-junk-food-in-hindi/
H2
H3
H4
3 columns
2 columns
1 column
1 Comment