मखाना कैसे बनता है और क्या हैं मखाना खाने के फायदे?

https://hamarasansar.com/wp-content/uploads/2020/10/म�ाना-��स�-बनता-ह�-�र-��या-ह��-म�ाना-�ान�-��-फायद�_.png

विश�व �ा सर�वाधि� ल�भ� 80 प�रतिशत म�ान� �ा �त�पादन भारत म�� ह�ता ह�, वह भ� बिहार रा��य म��। भारत �� �लावा �ापान �र र�स म�� भ� �स�ा �त�पादन ह�ता ह�। ��� �ाद�य पदार�थ �स� ह�त� ह�� �िन�ह�� हम ब�� �ाव स� �ात� ह�� ल��िन हम�� पता ह� नह�� ह�ता �ि वह �हा� �र ��स� प�दा ह�त� ह��। पि�ल� प�स�� म�� हमन� ह��� �� बार� म�� �ाना था �� म�ान� �� सन�दर�भ म�� हम यह� �ानन� �� ��शिश �र���� �ि म�ाना ��स� बनता ह� �र ��या ह�� म�ाना �ान� �� फायद�?

देश भ­à¤° के विभ­à¤¿à¤¨à¥à¤¨ क्षेत्रों में कई लोग इन बीजों का उपयोग देवताओं को भ­à¥‡à¤‚ट के रूप में भ­à¥€ करते हैं, खासकर नवरात्रि के दौरान।

मखाना क्या होता है?

मखाने जिन्हें अंग्रेजी में फॉक्स नट (Fox nuts) भ­à¥€ कहा जाता है इसके अलावा इसे यूरेल फेरॉक्स, कमल के बीज, गोर्गन नट और फूल मखाना के रूप में भ­à¥€ जाना जाता है। यह जानना भ­à¥€ बहुत रोचक होगा कि यह हमारे राष्ट्रीय फूल कमल से ही प्राप्त होता है। अपनी सुंदरता के लिए जाने जाने वाले फूल में कमल के बीज या मखाना सहित बहुत कुछ होता है।

मखाना कैसे बनता है?

मखाना खाने में जितना स्वादिष्ट और पौष्टिक होता है और जितने मखाना खाने के फायदे होते हैं, इसका उत्पादन उतना ही कठिन होता है। यह एक कोई सामान्य फसल उगाने जैसा नहीं है , इसको बोने से लेकर फसल प्राप्त करना और फिर उसका प्रसंस्करण करना बहुत ही मेहनत का कार्य होता है। मखाने को बोने से लेकर आप तक पहुँचने में लगभ­à¤— 8-10 माह का समय लगता है।

मखाने की खेती और प्रसंस्करण में प्रयुक्त होने वाले उपकरण

गांज - यह बांस की कंनियों से बना एक उपकरण है जो लगभ­à¤— 50 सेंटीमीटर लम्बा और परिधि 35 सेंटीमीटर होती है। इसका उपयोग बीजों को तालाब के ताल से बाहर निकलने में होता है।

करा - यह एक बांस का खम्भ­à¤¾ होता है, इसका प्रयोग जलाशय के बीजों को जमा करने के लिए छोटे-छोटे खण्डों में बांटने के लिए किया जाता है।

खैंची - यह भ­à¥€ बांस का बना हुआ छोटा उपकरण होता है इसका उपयोह लावे के भ­à¤£à¥à¤¡à¤¾à¤°à¤£ के पहले लावे को चमकाने के लिए करते हैं।

चलनी - यह अलग-अलग आकर के छेदों वाली छलनियाँ होती है जिसका व्यास लगभ­à¤— आड़े से सवा सेमी तक होता है। गुर्री(बीजों) को उनके आकर के हिसाब से अलग अलग करने में किया जाता है।

अफरा एवं थापी - थापी लकड़ी की बनी होती है और अफरा चौकोर आकार का होता है जिस पर रख कर गर्म बीजों को तोडा जाता है। थापी को बीजों को तोड़ने के लिए हथोड़े के रूप में प्रयोग किया जाता है।

मखाने की बुवाई के लिए आवश्यक जल क्षेत्र

इसकी बुवाई स्थिर जल वाले क्षेत्रों में की जाती है। जिसकी गहराई 1 फ़ीट से लेकर 5 फ़ीट तक होती है। अधिक उत्पादन के लिए काली मिटटी उपयुक्त होती है। पारम्परिक रूप से मखाने की खेती जलाशयों में ही की जाती है जहाँ वर्ष भ­à¤° पानी जमा रहता है, लेकिन ऐसी निचली जमीन का प्रयोग



Posted from my blog with SteemPress : https://hamarasansar.com/health/what-is-makhana-and-their-health-benefits/
H2
H3
H4
3 columns
2 columns
1 column
1 Comment