अपने लिए सही मच्छरदानी का चुनाव कैसे करें?

https://hamarasansar.com/wp-content/uploads/2020/11/�पन�-लि�-सह�-म���रदान�-�ा-��नाव-��स�-�र��_.png

भारत म�� म���र�� �ा �त�� हम�शा स� ह� �म�न �� लि� पर�शान� �ा सबब बना ह�� ह�। म���र न ��वल हमार� न��द म�� द�ल द�त� ह�� वरन बह�त स� �ानल�वा बिमारिय�� �� वाह� भ� ह�त� ह��। व�स� त� म���र स� ब�ाव �� बह�त स� साधन बा�ार म�� � �� ह�� ल��िन �पन� �स पास पान� न �मा ह�न� द�ना �र सफा� र�ना ह� सर�वश�र�ष�ठ ह�। बाव��द हमार� ध�यान र�न� �� ��र म���र ह�� त� �पन� लि� �� �पय���त म���रदान� �ा �पय�� �रना ह� सर�वश�र�ष�ठ �पाय ह�। �स विषय पर हम ��� विस�तार स� बात �र���� �र बता���� �ि �पन� लि� सह� म���रदान� �ा ��नाव ��स� �र��?


म���र �र �नस� ह�न� वाल� ब�मारिया�

विश्व स्वस्थ्य संगठन ने मुख्य रूप से 6 प्रकार की बिमारियों के बारे में बताया है जो कि विभ­à¤¿à¤¨à¥à¤¨ प्रकार के मच्छरों के काटने से होती है।

मच्छर का प्रकार होने वाली बीमारी
एडीज़ एजिप्टीचिकनगुनिया
एडीज़ एजिप्टीजीका बुखार
एडीज़ एजिप्टीडेंगू
एडीज़ एजिप्टीयेलो फीवर
एनोफेलीजमलेरिया
क्यूलेक्सजापानी इंसेफेलाइटिस

एडीज़ एजिप्टी - यह मूलत: अफ्रीका महाद्वीप में पाया जाता है लेकिन अब यह  à¤²à¥‡à¤•à¤¿à¤¨ अब दुनिया भ­à¤° के à¤‰à¤·à¥à¤£à¤•à¤Ÿà¤¿à¤¬à¤‚धीय, उपोष्णकटिबंधीय और शीतोष्ण क्षेत्रों à¤®à¥‡à¤‚ फ़ैल गया है।

एनोफेलीज - इसकी लगभ­à¤— 400 जातियाँ होती है उनमें से 30-40 मलेरिया की वाहक होती है। मलेरिया मादा एनोफेलीज मच्छर के काटने से होता है। भ­à¤¾à¤°à¤¤ में प्रतिवर्ष लाखों लोगो की मौत मलेरिया से हो जाती है।

क्यूलेक्स - यह लगभ­à¤— पूरे विश्व में पाया जाता है और जापानी इंसेफेलाइटिस नामक बीमारी का वाहक है।

मच्छर से बचाव के तरीके

समय के साथ आज मच्छरों से बचाव के कई आधुनिक तरीके आ गए है लेकिन बावजूद इसके प्राचीन तरीके अभ­à¥€ भ­à¥€ उतने ही प्रासंगिक है। जैसा की कहा जाता है की इलाज से ज्यादा बचाव अच्छा होता है वही मच्छरों से होने वाली बिमारियों पर भ­à¥€ पूरी तरह से लागू होता है।

मच्छर से बचाव के आधुनिक तरीके

मच्छर भ­à¤¾à¤—ने की टिकिया (Mosquito repellant)

यह तरीका आजकल सबसे ज्यादा प्रयोग किये जाने वाले तरीकों में से एक है। इसका कारण है प्रयोग में आसान बिना किसी झंझट के बाद टिकिया मशीन में लगायी और चालू की। लेकिन इसमें प्रयोग किये जाने वाले रसायन के कारण लम्बे समय तक इसका नियमित उपयोग करना स्वास्थय के लिए अच्छा नहीं माना जाता है , खासकर बच्चों के लिए यह हानिकारक हो सकता है। बहुत जरुरी होने या अन्य कोई विकल्प उपलब्ध नहीं होने पर ही इसका प्रयोग करना ठीक है।

मच्छर भ­à¤¾à¤—ने वाली अगरबत्ती

कुछ वर्षों पूर्व तक इसका प्रयोग बहुत ज्यादा हुआ करता था लेकिन जब से मच्छर भ­à¤¾à¤—ने की टिकिया बाज़ार में आयी है इसका प्रयोग काफी काम हो गया है। इससे निकलने वाले धुएं और रसायन के कारण नियमित रूप से इसका प्रयोग भ­à¥€ ठीक नहीं माना गया है। जहाँ तक हो सके इसका उपयोग कुछ अन्य विकल्प न होने अथवा बहुत जरुरी होने पर ही करना चाहिए।

कीटनाशक स्प्रे

इसमें भ­à¥€ हानिकारक कीटनाशक मिलाया जाता है इसलिए भ­à¤²à¥‡ ही यह मच्छरों का खात्मा करता हो लेकिन हम पर भ­à¥€ बुरा प्रभ­à¤¾à¤µ छोड़ता है इसलिए इसके प्रयोग से भ­à¥€



Posted from my blog with Exxp : https://hamarasansar.com/life/how-to-find-the-best-mosquito-net/
H2
H3
H4
3 columns
2 columns
1 column
Join the conversion now