कैसा होता है चॉकलेट का पेड़ और चॉकलेट कैसे बनती है?

जी हाँ चॉकलेट पेड़ पर ही उगती है लेकिन वह नहीं जो आप खाते हैं। चॉकलेटआप तक पहुँचने से पहले एक लम्बी प्रक्रिया से गुजरती है तब आप चॉकलेट का लुत्फ़ उठा सकते हैं।

चॉकलेट की इतनी लोकप्रियता के बावजूद, अधिकांश लोग इस लोकप्रिय उत्पाद की अनूठी उत्पत्ति को नहीं जानते हैं। चॉकलेट एक ऐसा उत्पाद है जिसके उत्पादन के लिए जटिल प्रक्रियाओं की आवश्यकता होती है। इस प्रक्रिया में कोका की कटाई, कोकोआ की फलियों के लिए कोका को परिष्कृत करना और कोको बीन्स को साफ करने,और पीसने के लिए निर्माण कारखाने में भ­à¥‡à¤œà¤¨à¤¾ शामिल है। इन कोको बीन्स को फिर अन्य देशों में आयात या निर्यात किया जाता है और विभ­à¤¿à¤¨à¥à¤¨ प्रकार के चॉकलेट उत्पादों में बदल दिया जाता है।

पिछली पोस्ट में हमने हींग और मखाने के बारे में जाना था आज हम यहाँ विस्तार से जानने की कोशिश करेंगे कि कैसा होता है चॉकलेट का पेड़ और चॉकलेट कैसे बनती है?

चॉकलेट का पेड़ कहाँ और कैसे उगता है?

मूलत: गहरे उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में पाए वाले पेड़ जिसका वैज्ञानिक नाम थियोब्रोमा काकाओ(Theobroma cacao) है से प्राप्त फलों के बीजों से चॉकलेट प्राप्त होती है। इसके वैज्ञानिक नाम थियोब्रोमा काकाओ का ग्रीक भ­à¤¾à¤·à¤¾ में अर्थ होता है "देवताओं का भ­à¥‹à¤œà¤¨"!

इस छोटे से वीडियो में आप देख सकते हैं काकाओ का पेड़ और उस पर लगने वाला फल। इस फल के बीजों से ही काकाओ पाउडर और फिर उससे चॉकलेट बनाया जाता है।

दुनिया का लगभ­à¤— 30% काकाओ अफ्रीका के पश्चिमी देशआइवरी कोस्ट में उगता है।

कैसा होता है चोकलेट का पेड़(Cocoa Tree)?

काकाओ का पेड़ जंगलों में लगभ­à¤— 20-40 फ़ीट की ऊंचाई तक बढ़ता है और इसकी पत्तियां 12 इंच तक लम्बी होती है। चार वर्ष की उम्र के बाद इसमें फल लगने शुरू होते हैं। फल पपीते के आकर के होते हैं, एक पेड़ पर 1 पर वर्ष में लगभ­à¤— 70 फल तक लगते हैं।

फल चमकीले पीले रंग से गहरे बैंगनी तक रंग में होते हैं। वे छह महीने से कम समय में 35 सेमी (14 इंच) की लंबाई तक और 12 सेमी (4.7 इंच) की चौड़ाई में पकते हैं। प्रत्येक फल की लंबाई के साथ चलने वाली कई लकीरें होती हैं और फल की लंबी धुरी के चारों ओर 20 से 60 बीज या कोको बीन्स होते हैं। अंडाकार बीज लगभ­à¤— 2.5 सेमी (1 इंच) लंबे होते हैं और एक मीठे चिपचिपे सफेद गूदे से ढके होते हैं।

खेती कैसे होती है?

उष्णकटिबंधीय वन क्षेत्रों सतह से 100 से 1000 फ़ीट की ऊंचाई पर 20°-28 °C तापमान में चॉकलेट का पेड़ (

उष्णकटिबंधीय वन क्षेत्रों सतह से 100 से 1000 फ़ीट की ऊंचाई पर 20°-28 °C तापमान में चॉकलेट का पेड़ (ककाओ ) फलता फूलता है। इसके लिए वर्षा की आवश्यकता 100-200 मिमी की होती है।

) फलता फूलता है। इसके लिए वर्षा की आवश्यकता 100-200 मिमी की होती है।

लाभ­à¤•à¤¾à¤°à¥€ खेती के लिए ऐसी मिटटी की आवश्यकता होती है जो नमी को धारण कर सके। पेड़ की जड़ें बहुत गहरे तक नहीं जाती है इसलिए तेज हवाओं से भ­à¥€ इसकी सुरक्षा करना

H2
H3
H4
3 columns
2 columns
1 column
Join the conversion now